तुम देना साथ मेरा

तुम देना साथ मेरा

Thursday, 13 December 2012

अर्जी छुट्टी की..........संतोष सुपेकर










छुट्टी की अर्जी,
केवल एक कागज
या दस्तावेज
ही नहीं....

एक भावना है..
एक आशा है
उम्मीद है...और
हक भी है

एक धमकी है..
बहाना है.... और
सपना भी है

सपना, जो टूटता भी है कभी
जब होती है खारिज अर्जी
और लिखा मिलता है उसपर
अस्वीकृत..

मुस्कुराते हुए बॉस की मर्जी

और...एक और छुट्टी की अर्जी
जो हरदम स्वीकृत ही होती है
इस घोर कलियुग में भी
मानवतता यहाँ नही सोती है

वह अर्जी है...
माँ की बीमारी की वजह से
माँगी गई छुट्टी
अक्सर उस 'बीमार' माँ के लिये
जो मर चुकी है,
कई वर्ष पूर्व गाँव मे..

--संतोष सुपेकर
--संपादनः यशोदा अग्रवाल

13 comments:

  1. ऐसा भी होता है !!!

    ReplyDelete
  2. छुट्टी की अर्जी का सच अच्छी रचना .बधाई .

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  4. आपकी कविता निर्झर टाइम्स पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें http://nirjhar-times.blogspot.com और अपने सुझाव दें। आप द्वारा सहमति प्राप्त होने पर आपकी कविता निर्झर टाइम्स साप्ताहिक के अगले अंक में प्रकाशित की जाएगी। इस प्रकाशन के लिए कोई मानदेय देय नहीं होगा।
    सादर!

    ReplyDelete
  5. अच्छा लगा पढ़ कर कि अभी भावनाओ की छुट्टी नहीं हुई है

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभ प्रभात
      आभार

      Delete
  6. BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

    धन्यवाद
    www.blogvarta.com

    ReplyDelete
  7. वाकई छुट्टी की अर्जी उम्मीदों का दस्तावेज होती है..
    नीरज 'नीर'
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)

    ReplyDelete
  8. bahut sunder rachna.chitra bhi bahut sunder

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब सार्धक लाजबाब अभिव्यक्ति।
    महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ ! सादर
    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    अर्ज सुनिये
    कृपया मेरे ब्लॉग का भी अनुसरण करे

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर रचना

    मैने आज ही ब्लाग बनाया है

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर रचना है...मेरे ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है.
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    ReplyDelete